Saturday, July 2, 2022
होम खुला मंच

खुला मंच

राहुल का भूकंप, मोदी का भूकंप, खेल नैरेटिव का

राजीव रंजन झा : 

जब राहुल गांधी भूकंप शब्द का इस्तेमाल एक राजनीतिक संदेश देने के लिए करते हैं, तो यह असंवेदनशील नहीं होता है।

अमीरों को लेकर राहुल जी से चार सवाल

राजीव रंजन झा : 

विधानसभाओं के चुनाव अभियान के दरम्यान राहुल गांधी ने कहा कि नरेंद्र मोदी 50 अमीरों के लिए काम करते हैं। हो सकता है कि राहुल सच बोल रहे हों। इसलिए उनसे दरख्वास्त है कि वे जरा बतायें -

घेरेबंदी जैसी नोटबंदी और जाम में फँसे लोग

राजीव रंजन झा : 

नोटबंदी से लोग बहुत परेशान रहे, कुछ लोग पुलिस की घेरेबंदी से भी होते हैं। घेरेबंदी और नोटबंदी में बहुत फर्क है क्या!  

शोषक अमेरिका से शोषण करवाने की आतुरता

अमेरिका ने विदेशियों की आवाजाही पर जो रोक लगायी है, उस पर एक-लाइना चुटकी वरिष्ठ व्यंग्यकार आलोक पुराणिक की...

आपका दोहरापन सबको दिखने लगा है हुजूर!

राजीव रंजन झा : 

आपको शाहबानो की व्यथा दिखाई नहीं पड़ी थी, वैसे बड़े नारीवादी हैं। 

अब भी आपको तीन तलाक पर सर्वोच्च न्यायालय में मुकदमा लड़ रही मुस्लिम महिलाओं का दर्द नहीं दिखता, हालाँकि आज भी आपसे बड़ा नारीवादी कोई नहीं। 

ब्राह्मणों को छोड़ कर सबको आरक्षण!

राजीव रंजन झा :  वर्ण व्यवस्था के क्रम में ब्राह्मण सबसे ऊपर रखे गये थे, उनके बाद क्षत्रिय। खुद को क्षत्रिय कहने वाली बहुत-सी...

भाजपा के नेता सेट कर रहे बेटे-बेटियों को

राजीव रंजन झा : 

कांग्रेस में नेहरू जी के बाद कौन? इंदिरा जी। 

इंदिरा जी के बाद कौन? संजय जी। 

संजय जी की विमान दुर्घटना में मौत, अब कौन? राजीव जी।

राजीव जी के बाद कौन? सोनिया जी। 

सोनिया जी के बाद कौन? राहुल जी। 

राहुल जी नहीं चल रहे तो साथ में या विकल्प के रूप में कौन? प्रियंका जी। 

- Advertisment -

Most Read

उदयपुर की घटना : आतंकी हत्या पर सेक्युलरों ने सभी धर्मों को क्यों लपेटा?

उदयपुर में हुई जिहादी घटना ने जैसे सारा विमर्श ही मात्र एक विषय पर लाकर रख दिया है, और वह है कट्टरपंथी इस्लामिक जिहाद।...

गैंगवार के आतंक से फिर सहमा वासेपुर

भैया, यह वासेपुर है। कबूतर भी एक पंख से उड़ता है तो दूसरे पंख से इज्जत ढकता है। यहाँ अब इज्जत ढकने का सवाल नहीं है। जिंदा लोगों के लाशों में तब्दील होने की जंग है। इस बार जंग में शामिल है जेल में सजा काट रहे फहीम खान की सल्तनत के लिए चुनौती बन कर उभरा छोटे सरकार उर्फ प्रिंस खान। इस जंग में ड्रामा है, थ्रिल है, सस्पेंस है...

द कश्मीर फाइल्स : विवेक अग्निहोत्री ने उठा दी झूठ की दुकान

विवेक अग्निहोत्री की सफलता यही है कि उन्होंने विमर्श की दिशा मोड़ दी। उन्होंने बस दर्द को जस-का-तस परोस दिया, जो इतने वर्षों से झेलम नदी में कश्मीरियत की हरी काई के नीचे दबा था और अब वह दर्द बह कर नीचे उस मैदान में आ गया है, जहाँ तक आने से लिबरल जमात उसे रोक रही थी!

किसानों की आमदनी दोगुनी करने में कितना योगदान कर सकेगा बजट 2022?

क्या किसान की आमदनी 100 से बढ़ा कर 200 रुपये करने के लिए उपभोक्ता का खर्च 400 से बढ़ा कर 800 रुपये किया जाना ऐसा विकल्प है, जिसे लोग पसंद करेंगे? क्या आप तैयार हैं कि जो आटा 40 रुपये किलो खरीदते हैं, उसे 80 रुपये में खरीदने लगें और जो दाल 100 रुपये किलो खरीद रहे हैं, उसे 200 रुपये में खरीदने लगें? क्या किसानों की आमदनी दोगुनी करने का मतलब यह है कि खाद्य महँगाई भी दोगुनी हो जायेगी?
Cart
  • No products in the cart.