Monday, January 24, 2022

उत्तम मुखर्जी

1 पोस्ट0 टिप्पणी
धनबाद निवासी उत्तम मुखर्जी स्वतंत्र पत्रकार हैं और उन्हें कई बड़े मीडिया घरानों में लंबे समय तक महत्वपूर्ण पदों में काम करने का अनुभव है।

एडीजे उत्तम आनंद की हत्या : ढाई माह में ढाई कदम पर अटकी जाँच

जाँच में सीबीआई की टीम वहीं अटकी हुई है, जहाँ पुलिस ने जाँच शुरू की थी। इस बीच सीबीआई ने वैज्ञानिक जाँच का सहारा लिया। रहस्य की जानकारी देने वाले को पहले पाँच लाख तथा बाद में दस लाख रुपये का ईनाम देने के इश्तेहार चिपकाये गये। झारखंड उच्च न्यायालय भी अब तक की जाँच से संतुष्ट नहीं है। अब सीबीआई की ताक-झाँक कोयलांचल के चर्चित घरानों में शुरू हुई है।
Cart
  • No products in the cart.