Tuesday, January 26, 2021

Shiv Om Gupta

Avatar
50 पोस्ट0 टिप्पणी

कब तक जेल से फर्लो पर फुर्र होंगे संजय दत्त

शिव ओम गुप्ता :

इतिहास में ऐसे प्रसंग बहुत कम ही देखने को मिलते हैं जब किसी सजायाफ्ता कैदी पर जेल प्रशासन इस कदर मेहरबान हुआ हो, जैसा महाराष्ट्र के यरवदा का जेल प्रशासन अभिनेता संजय दत्त पर मेहरबान है।

न्यायाधीशों के खिलाफ भी अब कर सकेंगे शिकायत!

देश मंथन डेस्क :

प्रायः हम सभी न्याय पाने की जुगत में न्यायालय की शरण में खड़े होते हैं और कई दफा हम न्याय के मंदिर में बैठे न्यायमूर्ति की न्याय से असंतुष्ट भी होते हैं, लेकिन न्यायमूर्ति के खिलाफ आवाज उठाने के लिए हमारे पास अधिकार सीमित हैं, लेकिन अब आगे ऐसा नहीं होगा।

वही राग- वही रंग, फिर कैसे बदलेगा नीति आयोग?

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आज तक :

प्रधानमंत्री मोदी का नीति आयोग और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह के योजना आयोग में अंतर क्या है। मोदी के नीति आयोग के उपाध्यक्ष अरविंद पानागढ़िया और मनमोहन के योजना आयोग के मोंटक सिंह अहलूवालिया में अंतर क्या है। दोनों विश्व बैंक की नीतियों तले बने अर्थशास्त्री हैं।

हमारी-आपकी ज़िंदगी का आखिर मकसद क्या है?

संजय सिन्हा, संपादक, आज तक :

एक अनपढ़ आदमी के नाम कहीं से एक चिट्ठी आयी। अनपढ़ आदमी अकेला था। न आगे नाथ न पीछे पगहा। ऐसा पहली बार हुआ था कि किसी ने उस अनपढ़ आदमी के नाम घर पर चिट्ठी भेजी हो। उस आदमी ने उलट-पलट कर उस लिफाफे को देखा। उसकी समझ में नहीं आ रहा था कि आखिर इसमें लिखा क्या है। किसी ने उसे चिट्ठी लिखी ही क्यों?

डीबीटीएलः घटेगी या बढ़ेगी उपभोक्ताओं की उलझनें!

देश मंथन डेस्क :

1 जनवरी, वर्ष 2015 से आरंभ हुए डायरेक्ट बेनीफिट ट्रांसफर फॉर एलपीजी (डीबीटीएल) का लाभ उपभोक्ताओं को पहली एलपीजी गैस सिलेंडर की बुकिंग की डिलीवरी के बाद 1 से 4 दिन में ही मिले सकेगा, जो कि सीधे उनके बैंक खाते में जायेगी। लेकिन सब्सीडाईज्ड 12 सिलेंडर पहले ही ले चुके उपभोक्ताओं को इसका लाभ नहीं मिल पायेगा।

वर्ष 2015 और देश की लकीरें!

क़मर वाहिद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार :

तो आपका समय शुरू होता है अब! और ‘हॉट सीट’ पर हैं, नरेन्द्र मोदी, राहुल गाँधी, नीतीश कुमार और अरविन्द केजरीवाल! 2015 कोई मामूली साल नहीं है, जो हर साल की तरह बस आयेगा और चला जायेगा! यह लकीरों के बनने-बनाने और मिटने-मिटाने का साल है! इस साल को तय करना है कि देश किन लकीरों पर चलेगा?

ऐसे शिक्षकों पर देशद्रोह का मुकदमा चलना चाहिए?

संजय सिन्हा, संपादक, आज तक :

"अच्छा बताइए, राज्य सभा को अपर हाउस क्यों कहते हैं?"
"नहीं पता सर।"
"संसद के कितने अंग होते हैं, यह तो पता होगा ही।"
"नहीं सर, यह भी नहीं पता।"
"ओके, संसद में शून्य काल के बारे में तो सुना ही होगा।"
एक बड़ी चुप्पी...।

योजना बंद, अब नीति (NITI) आयोग करेगी काम

देश मंथन डेस्क :

भाजपा नीत राजग सरकार के सत्तासीन होते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने योजना आयोग की प्रासंगिकता पर सवाल उठाते हुए इसे खत्म करने की बात कही थी और इसकी जगह एक गतिशील संस्था की सिफारिश कर थी और नये वर्ष के पहले दिन ही इसको अमलीजामा पहना दिया गया है।

शियोमी रेडमी 4जी नोट, देखा क्या?

देश मंथन डेस्क :

चीनी स्मार्टफोन कंपनी शियोमी लेकर आयी है फोर्थ जनरेशन बेस्ड स्मार्टफोन। जी हाँ, रेडमी नोट 4जी नाम से भातीय बाजार में लाँच यह फोन सुपरहिट हो रही है।

डाक खाताधारकों को भी अब मिलेगा एटीएम कॉर्ड!

देश मंथन डेस्क :

क्या आपका भी भारतीय डाक विभाग में बचत खाता है? अगर हाँ तो जल्द ही डाक विभाग भी एटीएम सुविधा देने जा रही है। यानी अब डाक खाताधारी भी एटीएम सुविधा का लाभ उठा सकेंगे और उन्हें डाक में जमा पैसा निकालने के लिए डाकघरों के चक्कर लगाने नहीं लगाने होंगे।

TOP AUTHORS

Avatar
0 पोस्ट0 टिप्पणी
Avatar
0 पोस्ट0 टिप्पणी
Avatar
1260 पोस्ट0 टिप्पणी
Avatar
4 पोस्ट0 टिप्पणी
Rajeev Ranjan Jha
139 पोस्ट0 टिप्पणी
Avatar
44 पोस्ट0 टिप्पणी
Avatar
234 पोस्ट0 टिप्पणी
Avatar
11 पोस्ट0 टिप्पणी
Avatar
0 पोस्ट0 टिप्पणी
Avatar
50 पोस्ट0 टिप्पणी
- Advertisment -

Most Read

बिहार चुनाव में क्या फिर पलटी मारेंगे उपेंद्र कुशवाहा?

संदीप त्रिपाठी : 

बिहार विधानसभा चुनाव से पूर्व महागठबंधन में नया घमासान शुरू हो गया है। महागठबंधन में राजद नेता तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री पद के चेहरे के रूप में पेश किये जाने पर महागठबंधन के दो सहयोगी दलों - राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (रालोसपा) और विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) ने आवाज उठायी है। 

महागठबंधन से मुकाबले से पूर्व एनडीए में अंदरूनी घमासान

संदीप त्रिपाठी : 

बिहार विधानसभा चुनाव के मद्देनजर एनडीए में जबरदस्त रार मची हुई है। बिहार में एनडीए में कुल चार दल भाजपा, जदयू, लोजपा और हम (हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा) हैं।

बिहार में महागठबंधन की छोटी पार्टियों की बड़बोली माँगें

संदीप त्रिपाठी

बिहार विधानसभा चुनाव में महागठबंधन में सीटों के बंटवारे पर सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। दरअसल पिछले चुनाव में महागठबंधन का हिस्सा बन कर लड़ने वाली जदयू के गठबंधन से निकल जाने के बाद अब शेष बड़े दल राजद और कांग्रेस इस बार ज्यादा-से-ज्यादा सीटें अपने पास रखने के पक्ष में हैं।

कोरोना की लड़ाई तो हम तभी हार गये थे जब…

राजीव रंजन झा : 

कोरोना की श्रृंखला तोड़ने की लड़ाई हम उसी दिन हार गये थे, जब दिल्ली में हजारों-लाखों मजदूरों की भीड़ को उत्तर प्रदेश की बस चलने के नाम पर आनंद विहार में जुटा दिया गया था।