संजय सिन्हा, संपादक, आजतक :

मैं कभी सोते हुए बच्चे को चुम्मा नहीं लेता। मुझे पता है कि सोते हुए बच्चे को चुम्मा लेने से कोई फायदा नहीं, उल्टे नुकसान है।

पहली बात तो यह कि सोते हुए बच्चे को आप अगर चूमेंगे तो उसे पता ही नहीं चलेगा कि आपने उसे दुलार किया है। दूसरी बात यह कि सोते हुए बच्चे को चूमने पर उसके जागने और जाग कर रोने का खतरा होता है, ऐसे में बच्चे की माँ भी चिढ़ जाती है कि अच्छा भला सोते बच्चे को जगा दिया। कहने का मतलब यह कि जो बच्चा जागा हुआ हो, माँ की गोद में खेल रहा हो और माँ उसे दुलार कर रही हो, उसी बच्चे को अपनी गोद में लेकर दुलारने की कोशिश करनी चाहिए। अले…ले…ले, कितना दुलाला है… लाजकुमाल… इतना बोल कर बच्चे को चूमिये और फिर माँ की गोद में पकड़ा दीजिये। बच्चा भी खुश और माँ भी खुश। 

लेकिन यह ज्ञान मुझे तब मिला जब मैं नुकसान उठा चुका था। हुआ यह कि जब मैं ग्रेजुएशन कर रहा था तब मेरे कॉलेज की सबसे 'सुंदर' लड़की मुझ पर मर मिटी। मैं क्लास में कभी प्रथम श्रेणी वाला विद्यार्थी तो था नहीं, लेकिन मैं बाकी विद्यार्थियों को जो बताता उससे उनके नंबर आ जाते थे। ऐसे में कई लोग मेरा ठीक-ठाक इस्तेमाल कर लेते थे, मैं अपना इस्तेमाल खुद नहीं कर पाता था। लेकिन मैंने पढ़ाई में दूसरों की बहुत मदद की। 

सोच रहा हूँ कि उस लड़की का नाम लिखूँ या नहीं। वह कहाँ है, ये तो मुझे आज भी पता है, लेकिन उसका नाम लिख कर मैं उसे दुविधा में नहीं डालना चाहता। कायदे से तो मुहब्बत की कहानी उस स्याही से लिखनी चाहिए जो पढ़ने के चंद सेकेंडों के बाद सफेद हो जाये। मुहब्बत के सफर पर चलते हुए अपने कदमों के निशान मिटाते चलने चाहिए। इसलिए नहीं कि कोई आपका कुछ बिगाड़ लेगा। ऐसा इसलिए कि प्रेम कहानी में दो लोग समाहित होते हैं, और बिना दूसरे की अनुमति के उसके कदमों के निशान बयां नहीं किये जाने चाहिए। 

किसी ने मेरी वाल पर ही टिप्पणी की थी कि लड़कियाँ अपने प्रेम के 'निशान' को सीने में जज्ब कर लेती हैं, और लड़के 'होठों' पर। इसीलिए प्रेम के मामले में लड़कियों के लिए सबसे बड़ी शर्त प्रेम की 'गोपनीयता' होती है और सबसे छोटी शर्त भी 'गोपनीयता' ही होती है। अगर आप उसके प्रेम को 'गोपनीय' नहीं रख सकते तो मेरा यकीन कीजिए (सभी पुरुष परिजन) कि लड़की आपसे प्रेम भी नहीं कर सकती। 

लड़कियाँ मूल रूप से कोमल होती हैं, प्रेम में ईमानदार होती हैं और बहुत उम्मीदों से भरी होती हैं। उनके सपने छोटे, लेकिन अनगिनत होते हैं। कई बार बहुत अजब-गजब भी होते हैं। अब आप सभी को इसका तो अनुभव है ही, इसे मैं क्या साझा करूँ। आता हूँ मूल मुद्दे पर। 

तो मेरी ग्रेजुएशन वाली दोस्त ने कभी मुझे आई लव यू नहीं कहा, ना मैंने कहा। हम रोज कॉलेज में मिलते, और अलग हो जाते। जिस दिन हमारा आखिरी पेपर था, ठीक पेपर से पहले वो मेरे पास आयी और पर्स से निकाल कर अपनी शादी का कार्ड मेरे सामने रख दिया। 

उस पर लिखा था, "रानो वेड्स मनोज...।"

आखिरी पेपर अंग्रेजी का था, मुझसे सवाल पढ़े नहीं जा रहे थे, लग रहा था मुर्गियों के पाँव को स्याही में डुबो कर उस सवाल पत्र पर दौड़ा दिया गया है। एक-एक अक्षर मुर्गियों के पाँव के निशान की तरह नजर आ रहे थे। 

मुझे भी नहीं पता कि उन अक्षरों के क्या जवाब मैंने दिये। सवाल था 'ओ हेनरी' की कहानियों पर और मैं लिख आया था 'ओलिवर गोल्ड स्मिथ' के ड्रामा के बारे में। बहुत मुश्किल से एक सवाल पढ़ पाया था कि ' ओ हेनरी' की कहानी 'द लास्ट लीफ' में क्या संदेश छिपा है? मुझे याद है कि मैंने भी मुर्गियों के पाँव को स्याही में डुबो कर अपनी कॉपी पर दौड़ा दिया था। अंग्रेजी में लिख आया था, "गोबर में जो फूल खिलते हैं उनकी कोई अहमियत नहीं होती। गोबर में खिले फूलों को ना तो कोई भगवान की मूर्ति पर चढ़ाता है ना कोई उसका गजरा बनाता है। लेकिन गोबर में फूल खिलने बंद नहीं होते। फूलों का काम है खिलना। चाहे जहाँ खिलें, खिलेंगे ही। उन फूलों को परवाह नहीं कि आप उनकी माला बनायें या ना बनायें… फूलों को इस बात की चिंता नहीं होती कि वे गोबर के ढेर में खिल रहे हैं या किसी बाग में…" 

यकीनन टीचर को मेरी अंग्रेजी समझ में नहीं आयी और उसने मुझे इतने नंबर दिये जितने मुझे कभी नहीं आये थे।

परीक्षा के बाद मैं अपनी दोस्त से मिला और मैंने उससे पूछा कि तुमने परीक्षा के आखिरी दिन यह शादी का कार्ड क्यों दिया? सारा पेपर कूड़ा हो गया। तो उसने कहा कि उसके जो सारे पेपर कूड़ा हो गये, उसका क्या?

"सारे पेपर कूड़ा हो गये?"

ये पहला संवाद था, जिसमें छिपा था एक इजहार।

फिर मैं उसकी शादी में गया। बहुत-सी तस्वीरें खीची। और वह शादी करके चली गयी। 

बहुत साल बाद, जब मैं एमए कर चुका था, मॉस्को घूम आया था और वह माँ बन चुकी थी, तब मुझे एक मौका मिला उससे मिलने का।

घर गया, बच्चा बिस्तर पर सो रहा था। मनोज नामक उसका पति चश्मा लगाये अखबार पढ़ रहा था, और उसने मुझे उससे मिलाया कॉलेज फ्रेंड कह कर। 

यहाँ तक कहानी ठीक ही थी। लेकिन बुरा हो मेरी जल्दबाजी का। मैंने पास ही पालने में लेटे उसके बच्चे को अचानक गोद में उठा लिया, और उसे चूमते हुए कहा…"अले… ले… ले, कितना दुलाला है… लाजकुमाल" और बच्चा जाग गया। जागते ही रोने लगा। माँ ने बच्चे को मुझसे छीन कर अपनी गोद में ले लिया। उसे चुप कराते हुए बार-बार कह रही थी, "चुप हो जाओ… मामू आया है… मामू है…"

वह दिन है और आज का दिन है, मुझे लगता है कि लड़कियाँ शादी के बाद अच्छे-से-अच्छे प्रेमियों को भाई बना लेती हैं। उन्हें भी, जो उनके नाम पर अंग्रेजी की कॉपियों में 'गोबर पर फूल' खिलाने का दम रखते हैं। खैर, मेरी मुहब्बत की इस कहानी पर आप गौर करें या न करें, लेकिन मेरी इस बात का ध्यान रखियेगा…

कभी किसी के सोते हुए बच्चे को चूमने की भूल मत कीजिएगा। बच्चा भी दुखी होगा, माँ भी। और जब बच्चा दुखी होगा तो आप अपने आप 'मामू' बन जायेंगे।

(देश मंथन, 16 अप्रैल 2014)

Leave a comment

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : "लालू जिंदा हो गया है। सब बोलते थे कि लालू खत्म हो गया। देखो ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : "एक बार आप माउंट एवरेस्ट पर पहुँच जाते हैं तो उसके बाद उतरने ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : 'भागवत कथा' के नायक मोदी यूँ ही नहीं बने। क्या ...

डॉ वेद प्रताप वैदिक, राजनीतिक विश्लेषक : चार राज्यों में हुए उपचुनावों में भाजपा की वैसी दुर्गति ...

उमाशंकर सिंह, एसोसिएट एडिटर, एनडीटीवी प्रधानमंत्री ने आज ही सांसद आदर्श ग्राम योजना की शुरुआत की ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : सुना है, सरकार काला धन ढूँढ रही है। उम्मीद रखिए! एक न एक दिन ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : तो झाड़ू अब ‘लेटेस्ट’ फैशन है! बड़े-बड़े लोग एक अदना-सी झाड़ू के ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : राजनीति से इतिहास बनता है! लेकिन जरूरी नहीं कि इतिहास से राजनीति ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : सोने का पिंजरा बनाने के विकास मॉडल को सलाम .. एक ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : आखिर कौन नहीं चाहता था कि कांग्रेस हारे। सीएजी रिपोर्ट और ...

अभिरंजन कुमार : बनारस में भारत माता के दो सच्चे सपूतों नरेंद्र मोदी और अरविंद केजरीवाल के बीच ...

देश मंथन डेस्क यह महज संयोग है या नरेंद्र मोदी और उनकी टीम का सोचा-समझा प्रचार, कहना मुश्किल है। ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : 1952 में मौलाना अब्दुल कलाम आजाद को जब नेहरु ने ...

देश मंथन डेस्क : कांग्रेस की डिजिटल टीम ने चुनाव प्रचार के लिए अब ईमेल का सहारा लिया है, हालाँकि ...

दीपक शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार : कांग्रेस, सपा, बसपा, जेडीयू, आप... सभी मुस्लिम वोट बैंक की लड़ाई लड़ ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : बनारस इस चुनाव का मनोरंजन केंद्र बन गया है। बनारस से ऐसा क्या ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : जिसने भी बनारस के चुनाव को अपनी आँखों से नहीं देखा उसने इस ...

संजय सिन्हा, संपादक, आजतक : राजा ने सभी दरबारियों को एक-एक बिल्ली और एक-एक गाय दी। सबसे कहा कि ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार : मुगल बादशाह औरंगजेब ऐसा शासक रहा है, जिसका इतिहास में ...

विद्युत प्रकाश :  देश भर में सुबह के नास्ते का अलग अलग रिवाज है। जब आप झारखंड के शहरों में ...

संजय सिन्हा, संपादक, आजतक : मैं कभी सोते हुए बच्चे को चुम्मा नहीं लेता। मुझे पता है कि सोते हुए ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार :  भेंट द्वारका नगरी द्वारका से 35 किलोमीटर आगे है। यहाँ ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार :  रेलवे स्टीमर के अलावा पटना और पहलेजा घाट के बीच लोगों के ...

आलोक पुराणिक, व्यंग्यकार : अमेरिका के अखबार वाल स्ट्रीट जनरल ने रॉबर्ट वाड्रा की जमीन की बात की ...

लोकप्रिय मैसेजिंग सेवा व्हाट्सऐप्प का इस्तेमाल अब पर्सनल कंप्यूटर या लैपटॉप पर भी इंटरनेट के माध्यम ...

सोनी (Sony) ने एक्सपीरिया (Xperia) श्रेणी में नया स्मार्टफोन बाजार में पेश किया है।

लावा (Lava) ने भारतीय बाजार में अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है।

      लेनोवो (Lenovo) ने एस सीरीज में नया स्मार्टफोन पेश किया है। 

इंटेक्स (Intex) ने बाजार में नया स्मार्टफोन पेश किया है।

स्पाइस (Spice) ने स्टेलर (Stellar) सीरीज के तहत बाजार में अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है।

जोलो ने अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है। जोलो क्यू 1011 स्मार्टफोन मं 5 इंच की आईपीएस स्क्रीन लगी ...

एचटीसी ने भारतीय बाजार में दो नये स्मार्टफोन पेश किये हैं। कंपनी ने डिजायर 616 और एचटीसी वन ई8 ...