एल्फ्रेड नोबल, पत्रकार :

सोसाइटी के एक फ्लैट में शर्मा अंकल, आंटी रहते हैं। पचहत्तर से ज्यादा उम्र होगी। एक बेटा, एक बेटी है। बेटे को दो बेटियाँ और बेटी खुद भी हाल ही में नानी बनी हैं।

यानी शर्मा अंकल आंटी परनाना, परनानी बन चुके हैं और भरा पूरा परिवार है उनका। पर शायद केवल जुबानी। शायद केवल कहने को। बेटा अमरीका, कनाडा नहीं रहता, बल्कि मयूर विहार में रहता है और बेटी भी बगल के बाल्को अपार्टमेंट्स में। दूरी चंद फासलों की हैं पर मिटाये नहीं मिटती। जब समय मिलता है बच्चे आ जाते हैं मिलने। पर कम्बख्त आज समय है किसके पास। मेरे पास भी नहीं। कल कई दिनों के बाद रुचि और हम उनसे मिलने गये। होली में हम उनसे मिलने न जा सके थे तो वो नाराज भी थे सो उन्हें मनाने। 

उनके पास पूरी जिंदगी की कहानी है। कैसे उन्होंने कृषि भवन में निदेशक रहते हुए काम किया, दुनिया की सैर की, इंदिरा गांधी संग फोटू खिचायी, कैसे 1950-60 के दशक में उन्होंने अंतरजातीय विवाह किया। आकाशवाणी जाते थे आदि आदि। उनकी जिंदगी अब कहानी बन चुकी है, जिसे वो कहना चाहते हैं पर सुनने को कोई तैयार नहीं। वक्त किसी के पास नहीं। अब तो पोते पोतियाँ भी दादा दादी, नाना, नानी की कहानिया नहीं सुनते। स्कूल जाते हैं, ट्यूशन जाते हैं, डांस और म्यूजिक क्लास जाते हैं और इसके बाद वक़्त मिला तो रिश्तेदारों (दादा-दादी, नाना-नानी) के पास जाते हैं। 

कल रात बात करते करते उनकी दीवाल घडी का अलार्म बजा। रात के बारह बज चुके थे। हमने कहा कि काफी रात हो गयी हैं, अब हमें जाना चाहिए। आपके सोने का समय हो गया होगा। पर उन्होंने जो कहा वो बहुत ही मार्मिक था और महानगरीय जीवन का कटु सत्य। 

"हम तो बात करने के लिए तरसते हैं। तुम लोग आ जाते हो तो समय गुज़र जाता है। वरना वैसे भी रात अकेली आती है। नींद नहीं लाती। डेढ़ बजे तुम्हारी आंटी के लिए चाय बनाता हूँ और फिर दोनों चाय पीते हैं।" 

"पर इससे आपकी हेल्थ खराब हो जायेगी अंकल।" 

"अस्सी का होने जा रहा हूँ, अब किसके लिए, क्यूँ हेल्थ की चिंता करूँ?" 

रात भर जेहन में सवाल चलता रहा, क्या हम और हमारी जमात अपने बुजुर्गों के गुनहगार नहीं है? क्या अपनी ज़िन्दगी में हम इतने मगन हो गए हैं है कि हमें भान भी नहीं कि हमारे आस पास एक नहीं हजारों शर्मा, मिश्रा, उपाध्याय, गुप्ता, हक़ आदि आदि हैं जो हर दिन जिंदगी को झेलते हैं, जिनका वक्त काटे नहीं कटता और खामोशी से मौत का इंतजार करते हैं? क्या यही हैं उनकी नियति?

शायद नहीं!

(देश मंथन, 21 मार्च 2014)

Leave a comment

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : "लालू जिंदा हो गया है। सब बोलते थे कि लालू खत्म हो गया। देखो ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : "एक बार आप माउंट एवरेस्ट पर पहुँच जाते हैं तो उसके बाद उतरने ...

डॉ वेद प्रताप वैदिक, राजनीतिक विश्लेषक : चार राज्यों में हुए उपचुनावों में भाजपा की वैसी दुर्गति ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : 'भागवत कथा' के नायक मोदी यूँ ही नहीं बने। क्या ...

उमाशंकर सिंह, एसोसिएट एडिटर, एनडीटीवी प्रधानमंत्री ने आज ही सांसद आदर्श ग्राम योजना की शुरुआत की ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : सुना है, सरकार काला धन ढूँढ रही है। उम्मीद रखिए! एक न एक दिन ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : तो झाड़ू अब ‘लेटेस्ट’ फैशन है! बड़े-बड़े लोग एक अदना-सी झाड़ू के ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : राजनीति से इतिहास बनता है! लेकिन जरूरी नहीं कि इतिहास से राजनीति ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : सोने का पिंजरा बनाने के विकास मॉडल को सलाम .. एक ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : आखिर कौन नहीं चाहता था कि कांग्रेस हारे। सीएजी रिपोर्ट और ...

अभिरंजन कुमार : बनारस में भारत माता के दो सच्चे सपूतों नरेंद्र मोदी और अरविंद केजरीवाल के बीच ...

देश मंथन डेस्क यह महज संयोग है या नरेंद्र मोदी और उनकी टीम का सोचा-समझा प्रचार, कहना मुश्किल है। ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : 1952 में मौलाना अब्दुल कलाम आजाद को जब नेहरु ने ...

देश मंथन डेस्क : कांग्रेस की डिजिटल टीम ने चुनाव प्रचार के लिए अब ईमेल का सहारा लिया है, हालाँकि ...

दीपक शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार : कांग्रेस, सपा, बसपा, जेडीयू, आप... सभी मुस्लिम वोट बैंक की लड़ाई लड़ ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : बनारस इस चुनाव का मनोरंजन केंद्र बन गया है। बनारस से ऐसा क्या ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : जिसने भी बनारस के चुनाव को अपनी आँखों से नहीं देखा उसने इस ...

संजय सिन्हा, संपादक, आजतक : राजा ने सभी दरबारियों को एक-एक बिल्ली और एक-एक गाय दी। सबसे कहा कि ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार : मुगल बादशाह औरंगजेब ऐसा शासक रहा है, जिसका इतिहास में ...

विद्युत प्रकाश :  देश भर में सुबह के नास्ते का अलग अलग रिवाज है। जब आप झारखंड के शहरों में ...

संजय सिन्हा, संपादक, आजतक : मैं कभी सोते हुए बच्चे को चुम्मा नहीं लेता। मुझे पता है कि सोते हुए ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार :  भेंट द्वारका नगरी द्वारका से 35 किलोमीटर आगे है। यहाँ ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार :  रेलवे स्टीमर के अलावा पटना और पहलेजा घाट के बीच लोगों के ...

आलोक पुराणिक, व्यंग्यकार : अमेरिका के अखबार वाल स्ट्रीट जनरल ने रॉबर्ट वाड्रा की जमीन की बात की ...

लोकप्रिय मैसेजिंग सेवा व्हाट्सऐप्प का इस्तेमाल अब पर्सनल कंप्यूटर या लैपटॉप पर भी इंटरनेट के माध्यम ...

सोनी (Sony) ने एक्सपीरिया (Xperia) श्रेणी में नया स्मार्टफोन बाजार में पेश किया है।

लावा (Lava) ने भारतीय बाजार में अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है।

      लेनोवो (Lenovo) ने एस सीरीज में नया स्मार्टफोन पेश किया है। 

इंटेक्स (Intex) ने बाजार में नया स्मार्टफोन पेश किया है।

स्पाइस (Spice) ने स्टेलर (Stellar) सीरीज के तहत बाजार में अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है।

जोलो ने अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है। जोलो क्यू 1011 स्मार्टफोन मं 5 इंच की आईपीएस स्क्रीन लगी ...

एचटीसी ने भारतीय बाजार में दो नये स्मार्टफोन पेश किये हैं। कंपनी ने डिजायर 616 और एचटीसी वन ई8 ...