विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार :

मुगल बादशाह औरंगजेब ऐसा शासक रहा है, जिसका इतिहास में ज्यादातर नकारात्मक मूल्याँकन हुआ है। दिल्ली के इस सुल्तान की मजार है औरंगाबाद शहर से 30 किलोमीटर दूर खुल्ताबाद में। उसकी दिली तमन्ना थी कि उसे अपने गुरु के बगल में दफनाया जाये।

इसलिए अहमदनगर में 23 मार्च 1707 को मौत होने के बाद उसे यहाँ लाकर दफनाया गया। औरंगजेब की कब्र कच्ची है। कब्र के पास मौजूद सेवादार बताते हैं कि उसकी इच्छा थी कि कब्र को भव्य रूप नहीं दिया जाये।

अबुल मुजफ्फर मुहिउद्दीन मुहम्मद औरंगजेब आलमगीर का जन्म 4 नवम्बर 1618 को गुजरात के दाहोद में हुआ था। वह शाहजहाँ और मुमताज की छठी सन्तान और तीसरा बेटा था। उसका शासन 1658 से लेकर 1707 तक रहा। इस प्रकार उसने 50 साल यानी मुगल शासकों में सबसे ज्यादा साल तक शासन किया। उसकी पहचान हिन्दुस्तान के इतिहास के सबसे जालिम राजा के तौर पर है, जिसने अपने पिता को कैद किया, अपने सगे भाइयों और भतीजों की बेरहमी से ह्त्या की। गुरु तेग बहादुर का सिर कटवाया। गुरु गोबिंद सिंह के बच्चों को जिंदा दीवार में चुनवाया। पर उसकी सादगी के किस्से भी मशहूर हैं। 

औरंगजेब के अन्तिम समय में दक्षिण में मराठों का वर्चस्व बहुत बढ़ गया था। उन्हें दबाने में शाही सेना को सफलता नहीं मिल रही थी। इसलिए सन् 1683 में औरंगजेब खुद सेना लेकर दक्षिण की ओर गया। वह राजधानी से दूर रहता हुआ, अपने शासन−काल के लगभग अन्तिम 25 वर्ष तक इसी अभियान में व्यस्त रहा। उसकी मृत्यु महाराष्ट्र के अहमदनगर में 23 मार्च सन 1707 ई. में हो गई। उसकी इच्छा के ही मुताबिक दौलताबाद में स्थित फकीर सैय्यद जैनुद्दीन सिराजी रहमतुल्लाह की कब्र के अहाते में उसे दफना दिया गया। हालाँकि उसकी नीति ने इतने विरोधी पैदा कर दिये थे, जिस कारण मुगल साम्राज्य का अंत ही हो गया। औरगंजेब के बाद दिल्ली सल्तनत दिल्ली के आसपास ही सिमट कर रह गया था।

खुल्ताबाद में औरंगजेब की मजार पर बहुत कम लोग ही पहुँचते हैं। ज्यादातर लोग जो एलोरा या दौलताबाद आते हैं वे लगे हाथ औरंगजेब की मजार पर भी दस्तक देने पहुँच जाते हैं। मजार के पास बाहर इत्र की दुकाने हैं। चूँकि मजार के बगल में फकीर बुरहानुद्दीन (शेख जैनुउद्दीन शिराजी-हक) की कब्र है इसलिए उनकी कब्र पर फूल चढ़ाने वाले और दुआएँ माँगने वाले पहुँचते हैं। अकबर के गुरु सलीम चिश्ती के परिवार से आते थे, हजरत ख्वाजा बुरहानुद्दीन फकीर शेख बुरहानुद्दीन के नाम पर मध्य प्रदेश का बुरहानपुर शहर बसा है।

औरंगजेब की सादगी

कहा जाता है औरंगजेब सादा जीवन जीता था। वह उन सब दुर्गुणों से सर्वत्र मुक्त था, जो आमतौर पर राजाओं में होती है। खाने-पीने, वेश-भूषा और जीवन की सभी-सुविधाओं में वह बेहद संयम बरतता था। प्रशासन के कार्यों में व्यस्त रहते हुए भी वह अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए टोपियाँ सीकर कुछ पैसा कमाने का समय निकाल लेता था। औरंगजेब पर नई दृष्टि से बात करने वाले इतिहासकार कहते हैं कि उसने सिर्फ उन्ही मन्दिरों को तोड़वाया जहाँ से उसे भ्रष्टाचार की शिकायतें मिलीं। उसने अपने जीवन में कई मन्दिरों को दान भी दिया था। 

(देश मंथन, 01 मई 2015)

Leave a comment

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : "लालू जिंदा हो गया है। सब बोलते थे कि लालू खत्म हो गया। देखो ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : "एक बार आप माउंट एवरेस्ट पर पहुँच जाते हैं तो उसके बाद उतरने ...

डॉ वेद प्रताप वैदिक, राजनीतिक विश्लेषक : चार राज्यों में हुए उपचुनावों में भाजपा की वैसी दुर्गति ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : 'भागवत कथा' के नायक मोदी यूँ ही नहीं बने। क्या ...

उमाशंकर सिंह, एसोसिएट एडिटर, एनडीटीवी प्रधानमंत्री ने आज ही सांसद आदर्श ग्राम योजना की शुरुआत की ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : सुना है, सरकार काला धन ढूँढ रही है। उम्मीद रखिए! एक न एक दिन ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : तो झाड़ू अब ‘लेटेस्ट’ फैशन है! बड़े-बड़े लोग एक अदना-सी झाड़ू के ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : राजनीति से इतिहास बनता है! लेकिन जरूरी नहीं कि इतिहास से राजनीति ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : सोने का पिंजरा बनाने के विकास मॉडल को सलाम .. एक ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : आखिर कौन नहीं चाहता था कि कांग्रेस हारे। सीएजी रिपोर्ट और ...

अभिरंजन कुमार : बनारस में भारत माता के दो सच्चे सपूतों नरेंद्र मोदी और अरविंद केजरीवाल के बीच ...

देश मंथन डेस्क यह महज संयोग है या नरेंद्र मोदी और उनकी टीम का सोचा-समझा प्रचार, कहना मुश्किल है। ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : 1952 में मौलाना अब्दुल कलाम आजाद को जब नेहरु ने ...

देश मंथन डेस्क : कांग्रेस की डिजिटल टीम ने चुनाव प्रचार के लिए अब ईमेल का सहारा लिया है, हालाँकि ...

दीपक शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार : कांग्रेस, सपा, बसपा, जेडीयू, आप... सभी मुस्लिम वोट बैंक की लड़ाई लड़ ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : बनारस इस चुनाव का मनोरंजन केंद्र बन गया है। बनारस से ऐसा क्या ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : जिसने भी बनारस के चुनाव को अपनी आँखों से नहीं देखा उसने इस ...

संजय सिन्हा, संपादक, आजतक : राजा ने सभी दरबारियों को एक-एक बिल्ली और एक-एक गाय दी। सबसे कहा कि ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार : मुगल बादशाह औरंगजेब ऐसा शासक रहा है, जिसका इतिहास में ...

विद्युत प्रकाश :  देश भर में सुबह के नास्ते का अलग अलग रिवाज है। जब आप झारखंड के शहरों में ...

संजय सिन्हा, संपादक, आजतक : मैं कभी सोते हुए बच्चे को चुम्मा नहीं लेता। मुझे पता है कि सोते हुए ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार :  भेंट द्वारका नगरी द्वारका से 35 किलोमीटर आगे है। यहाँ ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार :  रेलवे स्टीमर के अलावा पटना और पहलेजा घाट के बीच लोगों के ...

आलोक पुराणिक, व्यंग्यकार : अमेरिका के अखबार वाल स्ट्रीट जनरल ने रॉबर्ट वाड्रा की जमीन की बात की ...

लोकप्रिय मैसेजिंग सेवा व्हाट्सऐप्प का इस्तेमाल अब पर्सनल कंप्यूटर या लैपटॉप पर भी इंटरनेट के माध्यम ...

सोनी (Sony) ने एक्सपीरिया (Xperia) श्रेणी में नया स्मार्टफोन बाजार में पेश किया है।

लावा (Lava) ने भारतीय बाजार में अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है।

      लेनोवो (Lenovo) ने एस सीरीज में नया स्मार्टफोन पेश किया है। 

इंटेक्स (Intex) ने बाजार में नया स्मार्टफोन पेश किया है।

स्पाइस (Spice) ने स्टेलर (Stellar) सीरीज के तहत बाजार में अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है।

जोलो ने अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है। जोलो क्यू 1011 स्मार्टफोन मं 5 इंच की आईपीएस स्क्रीन लगी ...

एचटीसी ने भारतीय बाजार में दो नये स्मार्टफोन पेश किये हैं। कंपनी ने डिजायर 616 और एचटीसी वन ई8 ...