संजय सिन्हा, संपादक, आजतक : 

मेरे मित्र को एक मकान चाहिए। वैसे दिल्ली में उनके पिता जी ने एक मकान बनवाया है और अब तक वो उसमें उनके साथ ही रह रहे थे। लेकिन कुछ साल पहले उनकी शादी हो गयी और उन्हें तब से लग रहा है कि उन्हें अब अलग रहना चाहिए। मैंने अपने मित्र से पूछा भी कि पिताजी के साथ रहने में क्या मुश्किल है?

मैं मित्र के पिताजी के मकान में गया हूँ। ठीक ठाक है। तीन कमरे हैं। एक कमरे में माँ और पिताजी रहते हैं। एक कमरा मेरे मित्र का है और एक कमरा मेहमानों के लिए है। मैंने मित्र से पूछा कि तुम्हें इससे अधिक और क्या चाहिए? तुम और तुम्हारी पत्नी दोनों नौकरी में हैं। दोनों दिन भर बाहर रहते है। रात में जब तुम घर आते हो तो माँ-बाप प्यार से तुम दोनों से मिलते हैं। और तुम्हें पूरा घर क्यों चाहिए? एक कमरा तुम्हारे लिए पर्याप्त है। वैसे पूरा घर ही तुम्हारा है। 

पर मेरा मित्र मेरी बात से सहमत नहीं हुआ। उसने कहा कि उसे अपना घर चाहिए। अलग घर। 

मैंने उसे समझाने की बहुत कोशिश की। ये तक समझाया कि माँ-पिताजी अकेले रह जाएंगे, उन्हें बुरा लगेगा। इतने प्यार से उन्होंने तुम्हें पाला है, तुम्हें पढ़ाया-लिखाया है। तुम अब उन्हें अकेला छोड़ दोगे तो उन्हें दुख होगा। और फिर तुम्हारा दफ्तर भी वहाँ से दूर नहीं। तुम पति-पत्नी काम पर जाते हो, घर लौट कर आते हो तो कोई तुम्हारा इंतजार करता मिलता है। माँ तो खाना भी बना कर रखती है। तुम अलग मकान मत लो। तुम साथ ही रहो। दोनों के लिए एक दूसरे का साथ अच्छा है। 

मेरा मित्र संजय सिन्हा का ज्ञान चुपचाप सुनता रहा। सारी बातें सुनने के बाद उसने धीरे से कहा कि उसकी पत्नी की माँ से नहीं बन रही। वो रोज मुझ पर दबाव डाल रही है कि अलग घर ले लो। उसका कहना है कि सबके अपने-अपने मकान होने चाहिए। उसकी दलील है कि यही उम्र जीने की होती है। ऐसे में हम वो सब पिताजी के मकान में रह कर नहीं कर सकते जो हम करना चाहते हैं।

मेरी एक बुरी आदत है। मैं माँ से अलग होने की बात सुनते ही किसी को बीच में टोक देता हूँ। मैंने अपने मित्र को भी टोक दिया। 

“तुम्हारी पत्नी ऐसा क्या करना चाहती है जिसके लिए तुम अपनी माँ को छोड़ने पर राजी हो गये हो?”

“संजय जी, मैं क्या-क्या बताऊं। उसे अपनी सहेलियों को पार्टी देने का मन है। वो कहती है कि उसे देर रात डाँस करने का मन करता है। वो पता नहीं क्या-क्या करना चाहती है, बस मैं रोज-रोज की किचकिच से तंग आ चुका हूँ। मुझे अब अलग मकान चाहिए।”

मैं अपने मित्र के चेहरे पर तनाव की लकीरें साफ-साफ पढ़ सकता था। 

मैं समझ रहा था कि मेरा मित्र दरकते रिश्तों की उहापोह में उलझ गया है। वो माँ को छोड़ना नहीं चाहता, पर पत्नी माँ के साथ रहना नहीं चाहती। उसने यकीनन बहुत कोशिश की होगी, पर बात नहीं बनी। अब उसे अलग मकान चाहिए और इसके लिए मेरी मदद।

मैं उसे अपने साथ लेकर कल एक ब्रोकर के पास गया। 

ब्रोकर ने हमें कई मकान दिखलाये। पर मकान बहुत महंगे हो गये हैं। मेरा मित्र कह रहा था कि पिछले दिनों जो नोटबंदी हुई थी, उसके बाद उसने सुना था कि मकान सस्ते हो गये हैं, पर कहाँ सस्ते हुए हैं? 

मैंने कहा कि मकान कभी सस्ते नहीं होने वाले। हाँ, कैश की कमी से थोड़ी सुस्ती जरूर आई होगी, पर मकान के दाम कभी कम नहीं होंगे।

मेरा मित्र मेरी ओर हैरान निगाहों से देख रहा था। वो यही सोच रहा होगा कि संजय सिन्हा तो ऐसे बातें कर रहे हैं जैसे प्रॉपर्टी के अर्थशास्त्र के वही ज्ञाता हैं। वही अर्थ जगत के भविष्यवक्ता हैं। दुनिया कह रही है कि मकान के दाम कम हुए हैं, संजय सिन्हा कह रहे हैं कि मकान के दाम कभी कम नहीं होने वाले। 

मेरे मित्र ने कुछ रुक कर कहा, “यार, सच में सुना था कि मकान सस्ते हुए हैं, पर मकान सस्ते मिल नहीं रहे। तुम ठीक ही कह रहे हो, मकान के दाम कम नही होंगे। पर ऐसा क्यों? मैंने तो ये भी सुना था कि मकान ज़्यादा बन गये हैं, कोई खरीदार नहीं है। फिर ये ब्रोकर मकान इतने महँगे क्यों बता रहा है?”

मैंने बहुत धीरे से कहा कि मकान की कीमत तुम जैसे लोगों की वजह से नहीं कम हो रही। मकान की कीमत तुम जैसे लोग कभी कम नहीं होने देंगे। आदमी के दरकते रिश्तों का लाभ ये बिल्डर ही तो उठा रहे हैं। 

बहुत पहले एक घर होता था। सब उसमें साथ रहते थे। फिर रिश्तों में आजादी की नयी परिभाषा का जन्म हुआ कि हमारा नहीं, मेरा मकान होना चाहिए। बिल्डर ने इस नयी सोच का फायदा उठाया। वो सीमेंट, कंक्रीट के सपने बेचने लगे। वो आदमी के टूटते रिश्तों में मुनाफा कमाने लगे। और तुम कोई आखिरी बेटा थोड़े न हो, जो अपने पिता का घर छोड़ कर अलग मकान खरीदने निकले हो? कुछ साल बाद तुम्हारा बेटा भी तुम्हारा घर छोड़ कर अपने लिए मकान ढूंढने निकलेगा। जब सबको अपना मकान चाहिए होगा, तो फिर मकान के दाम कम कैसे होंगे? वैसे तुम इन बातों की चिंता छोड़ो। ये चिंता संजय सिन्हा के हिस्से में है। रिश्तों की बातों का तुम्हारे लिए कोई अर्थ नहीं। तुम तो अपना बजट बताओ, अपना मकान खरीदो।

(देश मंथन, 01 मई 2017)

Leave a comment

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : "लालू जिंदा हो गया है। सब बोलते थे कि लालू खत्म हो गया। देखो ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : "एक बार आप माउंट एवरेस्ट पर पहुँच जाते हैं तो उसके बाद उतरने ...

डॉ वेद प्रताप वैदिक, राजनीतिक विश्लेषक : चार राज्यों में हुए उपचुनावों में भाजपा की वैसी दुर्गति ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : 'भागवत कथा' के नायक मोदी यूँ ही नहीं बने। क्या ...

उमाशंकर सिंह, एसोसिएट एडिटर, एनडीटीवी प्रधानमंत्री ने आज ही सांसद आदर्श ग्राम योजना की शुरुआत की ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : सुना है, सरकार काला धन ढूँढ रही है। उम्मीद रखिए! एक न एक दिन ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : तो झाड़ू अब ‘लेटेस्ट’ फैशन है! बड़े-बड़े लोग एक अदना-सी झाड़ू के ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : राजनीति से इतिहास बनता है! लेकिन जरूरी नहीं कि इतिहास से राजनीति ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : सोने का पिंजरा बनाने के विकास मॉडल को सलाम .. एक ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : आखिर कौन नहीं चाहता था कि कांग्रेस हारे। सीएजी रिपोर्ट और ...

अभिरंजन कुमार : बनारस में भारत माता के दो सच्चे सपूतों नरेंद्र मोदी और अरविंद केजरीवाल के बीच ...

देश मंथन डेस्क यह महज संयोग है या नरेंद्र मोदी और उनकी टीम का सोचा-समझा प्रचार, कहना मुश्किल है। ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : 1952 में मौलाना अब्दुल कलाम आजाद को जब नेहरु ने ...

देश मंथन डेस्क : कांग्रेस की डिजिटल टीम ने चुनाव प्रचार के लिए अब ईमेल का सहारा लिया है, हालाँकि ...

दीपक शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार : कांग्रेस, सपा, बसपा, जेडीयू, आप... सभी मुस्लिम वोट बैंक की लड़ाई लड़ ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : बनारस इस चुनाव का मनोरंजन केंद्र बन गया है। बनारस से ऐसा क्या ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : जिसने भी बनारस के चुनाव को अपनी आँखों से नहीं देखा उसने इस ...

संजय सिन्हा, संपादक, आजतक : राजा ने सभी दरबारियों को एक-एक बिल्ली और एक-एक गाय दी। सबसे कहा कि ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार : मुगल बादशाह औरंगजेब ऐसा शासक रहा है, जिसका इतिहास में ...

विद्युत प्रकाश :  देश भर में सुबह के नास्ते का अलग अलग रिवाज है। जब आप झारखंड के शहरों में ...

संजय सिन्हा, संपादक, आजतक : मैं कभी सोते हुए बच्चे को चुम्मा नहीं लेता। मुझे पता है कि सोते हुए ...

आलोक पुराणिक, व्यंग्यकार : अमेरिका के अखबार वाल स्ट्रीट जनरल ने रॉबर्ट वाड्रा की जमीन की बात की ...

एल्फ्रेड नोबल, पत्रकार : सोसाइटी के एक फ्लैट में शर्मा अंकल, आंटी रहते हैं। पचहत्तर से ज्यादा ...

दीपक शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार : हारवर्ड और एमआईटी (MIT) बोस्टन विश्व विद्यालयों ने अमेरिका को ...

लोकप्रिय मैसेजिंग सेवा व्हाट्सऐप्प का इस्तेमाल अब पर्सनल कंप्यूटर या लैपटॉप पर भी इंटरनेट के माध्यम ...

सोनी (Sony) ने एक्सपीरिया (Xperia) श्रेणी में नया स्मार्टफोन बाजार में पेश किया है।

लावा (Lava) ने भारतीय बाजार में अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है।

      लेनोवो (Lenovo) ने एस सीरीज में नया स्मार्टफोन पेश किया है। 

इंटेक्स (Intex) ने बाजार में नया स्मार्टफोन पेश किया है।

स्पाइस (Spice) ने स्टेलर (Stellar) सीरीज के तहत बाजार में अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है।

जोलो ने अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है। जोलो क्यू 1011 स्मार्टफोन मं 5 इंच की आईपीएस स्क्रीन लगी ...

एचटीसी ने भारतीय बाजार में दो नये स्मार्टफोन पेश किये हैं। कंपनी ने डिजायर 616 और एचटीसी वन ई8 ...