डॉ वेद प्रताप वैदिक, राजनीतिक विश्लेषक :

चार राज्यों में हुए उपचुनावों में भाजपा की वैसी दुर्गति तो नहीं हुई, जैसी उत्तराखंड में हुई थी याने कोई राज्य ऐसा नहीं है, जहाँ भाजपा या उसकी सहयोगी पार्टी जीती न हो।

भाजपा का पूरा सफाया कहीं नहीं हुआ है। हो भी कैसे सकता था? अभी तीन माह पहले हुए लोकसभा चुनावों में उसे जैसा प्रचंड बहुमत मिला था, उसे देखते हुए शतरंज का एकदम उलट जाना संभव नहीं था। पिछले तीन माह में मोदी सरकार ने ऐसा कुछ नहीं किया, जिससे क्रुद्ध होकर जनता उसे शीर्षासन करवा दे।

लेकिन कुल 18 में से 10 सीटों की हार का क्या मतलब है? भाजपा कुल आठ सीटों पर ही जीत पायी। पंजाब में तो एक सीट उसके सहयोगी अकाली दल को मिली। शेष तीनों राज्यों - बिहार, मध्य प्रदेश और कर्नाटक में उसने अपनी पहले से जीती हुई सीटें खोयी हैं। हालाँकि राज्यों के उप-चुनावों में स्थानीय मुद्दों का ही ज्यादा असर होता है लेकिन यह प्रश्न उठना स्वाभाविक है कि क्या मोदी का जादू अब फीका पड़ने लगा है?

मेरे ख्याल से यह सवाल ही गलत है। क्योंकि लोकसभा के चुनाव में जो असली जादू चला था, वह था सोनिया-मनमोहन भ्रष्टाचार का! इसी भ्रष्टाचार के कीचड़ में से मोदी का कमल खिला था। अब चाहे राज्यों के उप-चुनाव हों या लोकसभा के, वह असली मुद्दा तो भारत के पर्दे से गायब हो गया है। अब यदि मोदी सरकार कोई चमत्कारी काम करेगी तो ही उसके नाम पर वोट मिल सकेंगे। भाषण का जमाना लद गया है। बिहार में विपक्ष के गठबंधन को सीटें ही ज्यादा नहीं मिली हैं, उनके वोटों की संख्या भी भाजपा से कहीं ज्यादा हो गयी है। यदि इसी तरह के गठबंधन अन्य राज्यों में भी हो गए तो कोई आश्चर्य नहीं कि अगले दो-ढाई वर्ष में ही केंद्र सरकार की विदाई के ढोल बजने लगें।

ये चुनाव-परिणाम और इनके पहले आये स्थानीय निकायों के चुनाव-परिणामों ने खतरे की घंटी अभी से बजा दी है। यदि भाजपा के नेतागण लोकसभा-चुनाव की जीत को अपनी लोकप्रियता का प्रमाण समझ बैठेंगे तो वे बहुत बड़ी गलती करेंगे। यह जीत तो सिर्फ एक मौका है। इस मौके को भाजपा कैसे भुनाती है, इस पर उसका भविष्य निर्भर करेगा।

उसे यह नहीं भूलना होगा कि भारतीय समाज अभी भी जातीय, क्षेत्रीय और मजहबी संकीर्णताओं में जकड़ा हुआ है। अब जिन राज्यों के चुनाव अगले दो साल में होने हैं, वहाँ ये ही परंपरागत तत्व प्रभावशाली भूमिका अदा करेंगे। या तो इन्हीं तत्वों की तिकड़म लड़ाने में भाजपा महारत हासिल करे या फिर वह मूलभूत परिवर्तन के कुछ चमत्कारी कदम उठाये।

(देश मंथन, 27 अगस्त 2014)

Leave a comment

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : "लालू जिंदा हो गया है। सब बोलते थे कि लालू खत्म हो गया। देखो ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : "एक बार आप माउंट एवरेस्ट पर पहुँच जाते हैं तो उसके बाद उतरने ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : 'भागवत कथा' के नायक मोदी यूँ ही नहीं बने। क्या ...

डॉ वेद प्रताप वैदिक, राजनीतिक विश्लेषक : चार राज्यों में हुए उपचुनावों में भाजपा की वैसी दुर्गति ...

उमाशंकर सिंह, एसोसिएट एडिटर, एनडीटीवी प्रधानमंत्री ने आज ही सांसद आदर्श ग्राम योजना की शुरुआत की ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : सुना है, सरकार काला धन ढूँढ रही है। उम्मीद रखिए! एक न एक दिन ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : तो झाड़ू अब ‘लेटेस्ट’ फैशन है! बड़े-बड़े लोग एक अदना-सी झाड़ू के ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : राजनीति से इतिहास बनता है! लेकिन जरूरी नहीं कि इतिहास से राजनीति ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : सोने का पिंजरा बनाने के विकास मॉडल को सलाम .. एक ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : आखिर कौन नहीं चाहता था कि कांग्रेस हारे। सीएजी रिपोर्ट और ...

अभिरंजन कुमार : बनारस में भारत माता के दो सच्चे सपूतों नरेंद्र मोदी और अरविंद केजरीवाल के बीच ...

देश मंथन डेस्क यह महज संयोग है या नरेंद्र मोदी और उनकी टीम का सोचा-समझा प्रचार, कहना मुश्किल है। ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : 1952 में मौलाना अब्दुल कलाम आजाद को जब नेहरु ने ...

देश मंथन डेस्क : कांग्रेस की डिजिटल टीम ने चुनाव प्रचार के लिए अब ईमेल का सहारा लिया है, हालाँकि ...

दीपक शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार : कांग्रेस, सपा, बसपा, जेडीयू, आप... सभी मुस्लिम वोट बैंक की लड़ाई लड़ ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : बनारस इस चुनाव का मनोरंजन केंद्र बन गया है। बनारस से ऐसा क्या ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : जिसने भी बनारस के चुनाव को अपनी आँखों से नहीं देखा उसने इस ...

संजय सिन्हा, संपादक, आजतक : राजा ने सभी दरबारियों को एक-एक बिल्ली और एक-एक गाय दी। सबसे कहा कि ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार : मुगल बादशाह औरंगजेब ऐसा शासक रहा है, जिसका इतिहास में ...

विद्युत प्रकाश :  देश भर में सुबह के नास्ते का अलग अलग रिवाज है। जब आप झारखंड के शहरों में ...

संजय सिन्हा, संपादक, आजतक : मैं कभी सोते हुए बच्चे को चुम्मा नहीं लेता। मुझे पता है कि सोते हुए ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार :  भेंट द्वारका नगरी द्वारका से 35 किलोमीटर आगे है। यहाँ ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार :  रेलवे स्टीमर के अलावा पटना और पहलेजा घाट के बीच लोगों के ...

आलोक पुराणिक, व्यंग्यकार : अमेरिका के अखबार वाल स्ट्रीट जनरल ने रॉबर्ट वाड्रा की जमीन की बात की ...

लोकप्रिय मैसेजिंग सेवा व्हाट्सऐप्प का इस्तेमाल अब पर्सनल कंप्यूटर या लैपटॉप पर भी इंटरनेट के माध्यम ...

सोनी (Sony) ने एक्सपीरिया (Xperia) श्रेणी में नया स्मार्टफोन बाजार में पेश किया है।

लावा (Lava) ने भारतीय बाजार में अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है।

      लेनोवो (Lenovo) ने एस सीरीज में नया स्मार्टफोन पेश किया है। 

इंटेक्स (Intex) ने बाजार में नया स्मार्टफोन पेश किया है।

स्पाइस (Spice) ने स्टेलर (Stellar) सीरीज के तहत बाजार में अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है।

जोलो ने अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है। जोलो क्यू 1011 स्मार्टफोन मं 5 इंच की आईपीएस स्क्रीन लगी ...

एचटीसी ने भारतीय बाजार में दो नये स्मार्टफोन पेश किये हैं। कंपनी ने डिजायर 616 और एचटीसी वन ई8 ...