दिल्ली विधान सभा में ईवीएम हैकिंग के प्रदर्शन का सीधा प्रसारण करा कर आम आदमी पार्टी ने ईवीएम को फिर से संदेह के घेरे में लाने का प्रयास किया है। देश मंथन ने इस मुद्दे पर कंप्यूटर क्षेत्र और आईटी कानूनों के जानकार पवन दुग्गल से बातचीत की। उनका मानना है कि तकनीकी रूप से तो किसी भी कंप्यूटर उपकरण की हैकिंग संभव है, लेकिन ईवीएम में इतने व्यापक स्तर पर हैकिंग व्यावहारिक रूप से संभव नहीं लगती है। प्रस्तुत है पवन दुग्गल से यह बातचीत। 

आम आदमी पार्टी (आप) के विधायक सौरभ भारद्वाज ने दिल्ली विधान सभा में ईवीएम में हेराफेरी का जो प्रदर्शन किया है, उस पर आपकी राय क्या है? 

ईवीएम आखिरकार एक कंप्यूटर है। अगर वह कंप्यूटर है तो कंप्यूटर हैक हो सकता है। कब होगा, कैसे होगा, कितना समय लगेगा, उस पर बात की जा सकती है। अगर उन्होंने दिखाया है कि हैकिंग हो सकती है, तो इसमें वे कोई नयी बात नहीं कर रहे हैं। हैकिंग हो सकती है, इसमें दो राय नहीं है। अब यह हैकिंग किस पैमाने पर हुई है, कहाँ हुई है, यह कहना थोड़ा मुश्किल है। 

कोई भी कंप्यूटर उपकरण हैक किया जा सकता है, इस बात में कोई आश्चर्य नहीं है। पर केवल दिल्ली में एमसीडी के चुनाव में ही करीब 13,000 ईवीएम मशीनों का उपयोग हुआ। इसका मतलब यह है कि आपके सामने 13,000 कंप्यूटर उपकरण हैं, जिनको हैक करना है। अगर ये सारे किसी नेटवर्क से जुड़े होते, तो नेटवर्क को हैक करके एक साथ सबमें हेराफेरी की जा सकती थी। लेकिन ये अलहदा उपकरण हैं, जो किसी नेटवर्क से नहीं जुड़े होते। यानी जिस भी मशीन को हैक करना हो, उस मशीन तक किसी व्यक्ति को खुद पहुँचना होगा। मशीन के नट-बोल्ट खोलने पड़ेंगे। तो क्या चुनावी प्रक्रिया में इतने बड़े पैमाने पर हैकरों का इन मशीनों तक पहुँचना और उनके नट-बोल्ट खोल पाना संभव लगता है?

इतने बड़े पैमाने पर इतने सारे लोग खुद हैक करें स्टैंडएलोन उपकरणों को, यह बात तार्किक रूप से नहीं जमती है। लेकिन जब बात हुई है तो उसका सत्यापन करने में कोई हर्ज नहीं है। पर इतने सारे स्टैंडएलोन उपकरणों को एक साथ हैक करने के लिए बहुत बड़ी संख्या में लोगों को लगाना होगा। 

इतनी बड़ी संख्या में हैकर कहाँ मिलेंगे? आप इतने लोगों को इस काम में लगा भी दें, तो क्या वह बात गुप्त रह जायेगी?

आप जो बात कह रहे हैं, वह दुरुस्त है। तकनीकी रूप से कहें तो मशीन हैक हो सकती है। लेकिन वास्तव में हैक हुई या नहीं, और क्या 13,000 मशीनों को एक साथ हैक किया जा सकता है, तो यह व्यावहारिक रूप से संभव नहीं लगता। लेकिन अगर बात हुई है तो उनको देखा जा सकता है। 

सौरभ भारद्वाज के प्रदर्शन की एक मूल बात यह है कि इसमें एक गुप्त कोड होता है, जिसे डालने पर एक ही दल को सारे मत पड़ने लगते हैं। चुनाव आयोग कह रहा है कि उसकी ईवीएम में ऐसा कोई गुप्त कोड होता ही नहीं है। तो इनके प्रदर्शन से हासिल क्या हो रहा है?

वे यही दिखा रहे हैं कि हैकिंग हो सकती है। वह तो मुद्दा ही नहीं है। कोई भी सिस्टम हैक हो सकता है। सवाल यह है कि क्या इतने बड़े पैमाने पर एक साथ 13,000 मशीनें हैक हो सकती हैं? अगर हो सकती हैं तो किन-किन लोगों ने किया? यह बड़ा अतार्किक या अविश्वसनीय लगता है। 

लेकिन मैं सोचता हूँ कि इसको नये नजरिये से देखने की जरूरत है। चुनाव आयोग जब ईवीएम का इस्तेमाल करता है, तो यह आईटी ऐक्ट के दायरे में आ जाता है। इस ऐक्ट के दायरे में वह इंटरमीडियरी बनता जा रहा है, क्योंकि वह एक सेवा उपलब्ध करा रहा है। इसलिए कानून के तहत यह साबित करना चुनाव आयोग का दायित्व हो जाता है कि उसने सुरक्षा के उचित और पर्याप्त उपाय वाली प्रक्रिया अपनायी है या नहीं। अभी चुनाव आयोग उल्टी बात कह रहा है। वह कह रहा है कि मैं आपको हैक करने की खुली चुनौती देता हूँ। कानून कहता है कि आप इंटरमीडियरी हैं, आप साबित कीजिए कि आपने उचित रूप से सुरक्षा प्रक्रियाएँ अपनायी हैं, यानी कि आईएसओ 27,001 के मापदंड अपनाये हैं। आयोग ने ये मापदंड अपनाये हैं या नहीं, इस पर कोई स्पष्टता नहीं है। 

चुनावी प्रक्रिया में ईवीएम चुनाव आयोग के दफ्तरों से मतदान-केंद्रों तक पहुँचाने के दौरान इस्तेमाल होने वाला लगभग पूरा तंत्र राज्य सरकारों का होता है, भले ही उस तंत्र पर निगरानी चुनाव आयोग की होती है। यानी वे लोग हैकिंग करा सकने में ज्यादा सक्षम होंगे, जो राज्य सरकार चला रहे हों। 

बिल्कुल संभव है। 

उस हिसाब से तो उत्तर प्रदेश में हैकिंग होने पर उसका फायदा अखिलेश यादव को मिलना चाहिए था! 

इसीलिए मैंने कहा कि दो मुद्दे हैं। तकनीकी मुद्दा कि क्या हैकिंग हो सकती है, तो साफ है कि हैकिंग हो सकती है। व्यावहारिक मुद्दा अलग है कि हैक हुआ या नहीं। व्यावहारिक रूप से यह अतार्किक लगता है कि इतने बड़े पैमाने पर, दिल्ली में 13,000 मशीनों को एक साथ हैक किया जाये। 

दिल्ली में तो 13,000 मशीनें थीं। पर उत्तर प्रदेश या पंजाब जैसे राज्यों में तो यह संख्या और बड़ी होगी, संभवतः लाखों में। 

सही बात कही। इतने बड़े पैमाने पर हैक करना संभव नहीं लगता है। पर जब सवाल उठाये जा रहे हैं तो चुनाव आयोग को बताना पड़ेगा कि उसने साइबर सुरक्षा के लिए क्या किया है। 

यानी आपका मानना है कि न केवल मशीन, बल्कि मतदान की पूरी प्रक्रिया में हेराफेरी की संभावना को नकारने और बाहरी तत्व गड़बड़ी नहीं कर सकते, यह दिखाने की जिम्मेदारी चुनाव आयोग की है। 

बिल्कुल। आईटी ऐक्ट के अंदर यह जिम्मेदारी चुनाव आयोग की हो जाती है। 

(देश मंथन, 11 मई 2017)

Leave a comment

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : "लालू जिंदा हो गया है। सब बोलते थे कि लालू खत्म हो गया। देखो ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : "एक बार आप माउंट एवरेस्ट पर पहुँच जाते हैं तो उसके बाद उतरने ...

डॉ वेद प्रताप वैदिक, राजनीतिक विश्लेषक : चार राज्यों में हुए उपचुनावों में भाजपा की वैसी दुर्गति ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : 'भागवत कथा' के नायक मोदी यूँ ही नहीं बने। क्या ...

उमाशंकर सिंह, एसोसिएट एडिटर, एनडीटीवी प्रधानमंत्री ने आज ही सांसद आदर्श ग्राम योजना की शुरुआत की ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : सुना है, सरकार काला धन ढूँढ रही है। उम्मीद रखिए! एक न एक दिन ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : तो झाड़ू अब ‘लेटेस्ट’ फैशन है! बड़े-बड़े लोग एक अदना-सी झाड़ू के ...

क़मर वहीद नक़वी, वरिष्ठ पत्रकार : राजनीति से इतिहास बनता है! लेकिन जरूरी नहीं कि इतिहास से राजनीति ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : सोने का पिंजरा बनाने के विकास मॉडल को सलाम .. एक ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : आखिर कौन नहीं चाहता था कि कांग्रेस हारे। सीएजी रिपोर्ट और ...

अभिरंजन कुमार : बनारस में भारत माता के दो सच्चे सपूतों नरेंद्र मोदी और अरविंद केजरीवाल के बीच ...

देश मंथन डेस्क यह महज संयोग है या नरेंद्र मोदी और उनकी टीम का सोचा-समझा प्रचार, कहना मुश्किल है। ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : 1952 में मौलाना अब्दुल कलाम आजाद को जब नेहरु ने ...

देश मंथन डेस्क : कांग्रेस की डिजिटल टीम ने चुनाव प्रचार के लिए अब ईमेल का सहारा लिया है, हालाँकि ...

दीपक शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार : कांग्रेस, सपा, बसपा, जेडीयू, आप... सभी मुस्लिम वोट बैंक की लड़ाई लड़ ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : बनारस इस चुनाव का मनोरंजन केंद्र बन गया है। बनारस से ऐसा क्या ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : जिसने भी बनारस के चुनाव को अपनी आँखों से नहीं देखा उसने इस ...

संजय सिन्हा, संपादक, आजतक : राजा ने सभी दरबारियों को एक-एक बिल्ली और एक-एक गाय दी। सबसे कहा कि ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार : मुगल बादशाह औरंगजेब ऐसा शासक रहा है, जिसका इतिहास में ...

विद्युत प्रकाश :  देश भर में सुबह के नास्ते का अलग अलग रिवाज है। जब आप झारखंड के शहरों में ...

संजय सिन्हा, संपादक, आजतक : मैं कभी सोते हुए बच्चे को चुम्मा नहीं लेता। मुझे पता है कि सोते हुए ...

आलोक पुराणिक, व्यंग्यकार : अमेरिका के अखबार वाल स्ट्रीट जनरल ने रॉबर्ट वाड्रा की जमीन की बात की ...

एल्फ्रेड नोबल, पत्रकार : सोसाइटी के एक फ्लैट में शर्मा अंकल, आंटी रहते हैं। पचहत्तर से ज्यादा ...

दीपक शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार : हारवर्ड और एमआईटी (MIT) बोस्टन विश्व विद्यालयों ने अमेरिका को ...

लोकप्रिय मैसेजिंग सेवा व्हाट्सऐप्प का इस्तेमाल अब पर्सनल कंप्यूटर या लैपटॉप पर भी इंटरनेट के माध्यम ...

सोनी (Sony) ने एक्सपीरिया (Xperia) श्रेणी में नया स्मार्टफोन बाजार में पेश किया है।

लावा (Lava) ने भारतीय बाजार में अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है।

      लेनोवो (Lenovo) ने एस सीरीज में नया स्मार्टफोन पेश किया है। 

इंटेक्स (Intex) ने बाजार में नया स्मार्टफोन पेश किया है।

स्पाइस (Spice) ने स्टेलर (Stellar) सीरीज के तहत बाजार में अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है।

जोलो ने अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है। जोलो क्यू 1011 स्मार्टफोन मं 5 इंच की आईपीएस स्क्रीन लगी ...

एचटीसी ने भारतीय बाजार में दो नये स्मार्टफोन पेश किये हैं। कंपनी ने डिजायर 616 और एचटीसी वन ई8 ...