डॉ वेद प्रताप वैदिक, राजनीतिक विश्लेषक :

जनता दल (यू) के अध्यक्ष शरद यादव के मोह-भंग से कई सबक मिलते हैं। शरद यादव ने एक बार नहीं, दो बार सार्वजनिक-तौर पर कहा है कि जातिवादी राजनीति ने बिहार का नाश कर दिया है।

यह जातिवादी राजनीति लालू और नीतीश को भी लील जायेगी। यदि यह बात उन्होंने इसलिए कही है कि वे चुनाव हार रहे हैं और नीतीश के रवैए से खफा हैं, तो इसे हम उनकी तात्कालिक प्रतिक्रिया और गुस्से व निराशा में दी गयी प्रतिक्रिया मान सकते हैं। यदि ऐसा है, तो भी शरद यादव का जातिवाद के विरुद्ध बोलना अपने आप में बहुत मायने रखता है।

शरद यादव उन नेताओं में बेहतर नेता हैं, जो मेरी पीढ़ी के हैं। वे विचारशील हैं, चरित्रवान हैं, सज्जन हैं और बहुत संतुलित है। वे डॉ. राममनोहर लोहिया के अनुयायियों में से हैं। अपने प्रारंभिक वर्षों में उन्होंने मेरे साथ काम भी किया है। उन्होंने अंग्रेजी हटाओ और जात तोड़ों आंदोलनों में सक्रिय हिस्सेदारी भी की है। अचानक क्या हुआ कि वे जातिवादी राजनीति के सबसे प्रखर पुरोधा बन गये। उन्होंने क्या, देश के सभी नेताओं ने जातिवाद के आगे घुटने टेक दिये। इसीलिए मैं उन्हें नेता नहीं, पिछलग्गू कहता हूँ। वोट के पिछलग्गू! वोट के भिखारी!! वोट के डकैत!!!

ये लोग जात तोड़ो की बजाय जात जोड़ो की माला जपने लगे। डॉ. लोहिया ने जात तोड़ने के लिए ही पिछड़ों को आगे बढ़ाने की बात कही थी। जात तो टूटी नहीं, जो पिछड़े आगे बढ़ गये, उनकी नयी जात बन गयी। यह नयी मलाईदार पिछड़ों की जात अपनी ही जात को नीची नजर से देखने लगी। याने जात में एक नयी जात और सिर पर लद गयी। इसके अलावा जातियों में पहले से चली आ रहीं उप-जातियाँ, अति-उपजातियाँ इतनी हैं कि वे जातिवादी नेताओं- माया, मुलायम, लालू, नीतीश, शरद को भी तंग करने लगीं। पिछड़ी और दलित जातियों में ही अनेक भस्मासुर उठ बैठे। जातिवादी नेताओं को अब आटे-दाल के भाव पता चल रहे हैं। इस विनाशकारी और विभाजनकारी राजनीति को वे अब तिलांजलि दे सकें तो उनका और देश का बड़ा कल्याण होगा। जो नेता जाति के नाम पर वोट माँगता है, वह यह सिद्ध करता है कि उसमें कोई काबिलियत है ही नहीं। सब कुछ जाति है। योग्यता, सेवा, ईमानदारी का कोई खास महत्व नहीं है। जाति नेता को निकम्मा बनाती है। वह अपनी जात के भोले लोगों को भी अनंतकाल तक निकम्मा बनाये रखने का पुख्ता इंतजाम करता है। वह उन्हें आरक्षण के लालच में फंसाता है। जन्म के आधार पर आरक्षण से बड़ा राजनीतिक भ्रष्टाचार और कोई नहीं है। जब आप सवर्णों के गरीबों को भी आरक्षण देने को तैयार हैं तो सभी गरीबों को जातीय-भेद-भाव के बिना आरक्षण क्यों नहीं दे सकते? यदि शरद यादव का मोहभंग कुछ रंग लाये और हमारे देश से जातीय राजनीति खत्म हो तो यह देश सचमुच समतामूलक बनेगा और दिन दूनी रात चौगुनी उन्नति करेगा।

(देश मंथन, 06 मई 2014)

 

Leave a comment

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : "लालू जिंदा हो गया है। सब बोलते थे कि लालू खत्म हो गया। देखो ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : "एक बार आप माउंट एवरेस्ट पर पहुँच जाते हैं तो उसके बाद उतरने ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : 'भागवत कथा' के नायक मोदी यूँ ही नहीं बने। क्या ...

डॉ वेद प्रताप वैदिक, राजनीतिक विश्लेषक : चार राज्यों में हुए उपचुनावों में भाजपा की वैसी दुर्गति ...

उमाशंकर सिंह, एसोसिएट एडिटर, एनडीटीवी प्रधानमंत्री ने आज ही सांसद आदर्श ग्राम योजना की शुरुआत की ...

राजीव रंजन झा :  जब इस बात के दस्तावेज सामने आये कि यूके में अपनी एक कंपनी के निदेशक के रूप में ...

जैसे-जैसे चुनावी सरगर्मियाँ परवान चढ़ रही हैं, वैसे-वैसे विभिन्न दलों के बीच जुबानी जंग भी तीखी ...

विकास मिश्रा, आजतक : योगेंद्र यादव आम आदमी पार्टी के नेता हैं, बोलते हैं तो जुबां से मिसरी झरती ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : सोने का पिंजरा बनाने के विकास मॉडल को सलाम .. एक ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : आखिर कौन नहीं चाहता था कि कांग्रेस हारे। सीएजी रिपोर्ट और ...

देश मंथन डेस्क यह महज संयोग है या नरेंद्र मोदी और उनकी टीम का सोचा-समझा प्रचार, कहना मुश्किल है। ...

अभिरंजन कुमार : बनारस में भारत माता के दो सच्चे सपूतों नरेंद्र मोदी और अरविंद केजरीवाल के बीच ...

पुण्य प्रसून बाजपेयी, कार्यकारी संपादक, आजतक : 1952 में मौलाना अब्दुल कलाम आजाद को जब नेहरु ने ...

देश मंथन डेस्क : कांग्रेस की डिजिटल टीम ने चुनाव प्रचार के लिए अब ईमेल का सहारा लिया है, हालाँकि ...

दीपक शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार : कांग्रेस, सपा, बसपा, जेडीयू, आप... सभी मुस्लिम वोट बैंक की लड़ाई लड़ ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : बनारस इस चुनाव का मनोरंजन केंद्र बन गया है। बनारस से ऐसा क्या ...

संजय सिन्हा, संपादक, आजतक : राजा ने सभी दरबारियों को एक-एक बिल्ली और एक-एक गाय दी। सबसे कहा कि ...

रवीश कुमार, वरिष्ठ टेलीविजन एंकर : जिसने भी बनारस के चुनाव को अपनी आँखों से नहीं देखा उसने इस ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार : मुगल बादशाह औरंगजेब ऐसा शासक रहा है, जिसका इतिहास में ...

विद्युत प्रकाश :  देश भर में सुबह के नास्ते का अलग अलग रिवाज है। जब आप झारखंड के शहरों में ...

आलोक पुराणिक, व्यंग्यकार  : डेंगू से मरने वालों पर रोज छप रहा है। पर एक डाक्टर या क्लिनिक नहीं ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार :  रेलवे स्टीमर के अलावा पटना और पहलेजा घाट के बीच लोगों के ...

विद्युत प्रकाश मौर्य, वरिष्ठ पत्रकार :  भेंट द्वारका नगरी द्वारका से 35 किलोमीटर आगे है। यहाँ ...

संजय सिन्हा, संपादक, आजतक :  मास्टर साहब पाँचवीं कक्षा में पढ़ाते थे, “फूलों से नित हंसना सीखो, ...

लोकप्रिय मैसेजिंग सेवा व्हाट्सऐप्प का इस्तेमाल अब पर्सनल कंप्यूटर या लैपटॉप पर भी इंटरनेट के माध्यम ...

सोनी (Sony) ने एक्सपीरिया (Xperia) श्रेणी में नया स्मार्टफोन बाजार में पेश किया है।

लावा (Lava) ने भारतीय बाजार में अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है।

इंटेक्स (Intex) ने बाजार में नया स्मार्टफोन पेश किया है।

      लेनोवो (Lenovo) ने एस सीरीज में नया स्मार्टफोन पेश किया है। 

जोलो ने अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है। जोलो क्यू 1011 स्मार्टफोन मं 5 इंच की आईपीएस स्क्रीन लगी ...

स्पाइस (Spice) ने स्टेलर (Stellar) सीरीज के तहत बाजार में अपना नया स्मार्टफोन पेश किया है।

एचटीसी ने भारतीय बाजार में दो नये स्मार्टफोन पेश किये हैं। कंपनी ने डिजायर 616 और एचटीसी वन ई8 ...